भावनाओं को बकवास समझना

महिलायें भावनात्मक हो सकती हैं परंतु व्यावहारिक दृष्टि से पुरुष सदैव ऐसे नहीं होते। पुरुष अच्छे हो सकते हैं यदि वे भावनाओं का मज़ाक बनाना और उन्हें व्यर्थ समझना छोड़ दें।