उत्तानासन




उत्तानासन के नियमित अभ्यास से शरीर के पिछले भागों का सम्पूर्ण व्यायाम हो जाता है और इन भागों में मौजूद तनाव दूर होता है। यह पैरों के पार्श्व भागों को लचीला और मजबूत बनाने वाली योग मुद्रा है। इस आसन से रीढ़ की हड्डियों में पर्याप्त खींचाव होता है। गर्दन और मस्तिष्क को रिलैक्स मिलता है। मानसिक तनाव कम होता है और शांति मिलती है।

आसन विधि:

उत्तानासन का अभ्यास करते समय सिर और गर्दन को ज़मीन की दिशा में जहां तक संभव हो मोड़ना चाहिए। इस अवस्था में मेरूदंड सीधी होनी चाहिए। आसन के समय हथेलियों को जमीन से लगा होना चाहिए। अगर ऐसा करने में आप सक्षम नहीं हैं तो बाहों को ज़मीन की दिशा में जहां तक संभव हो झुकाकर रखें अथवा घुटनों उस हद तक मोड़ने की कोशिश करें जिससे की हथेलियां ज़मीन का स्पर्श कर सके। अभ्यास के दौरान पुष्टिकाओं को घुटनों के समानान्तर रखने की चेष्टा करनी चाहिए।


और पढ़ें

































2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम