किस तरह शरीर से होता है ब्रह्म का ज्ञान व दर्शन? लाल किताब | आत्मा के रहस्य | Aatma ke Rahasya : Mirchi Facts Untitled Document

किस तरह शरीर से होता है ब्रह्म का ज्ञान व दर्शन?, mirchi facts, लाल किताब, आत्मा के रहस्य, Aatma ke Rahasya" /> Untitled Document

किस तरह शरीर से होता है ब्रह्म का ज्ञान व दर्शन?" />

किस तरह शरीर से होता है ब्रह्म का ज्ञान व दर्शन?


मनुष्य शरीर दो आंखं, दो कान, दो नाक के छिद्र, एक मुंह, ब्रह्मरन्ध्र, नाभि, गुदा और शिश्न के रूप में 11 दरवाजों वाले नगर की तरह है, जो अविनाशी, अजन्मा, ज्ञानस्वरूप, सर्वव्यापी ब्रह्म की नगरी ही है। वे मनुष्य के ह्रदय रूपी महल में राजा की तरह रहते हैं। इस रहस्य को समझ जो मनुष्य जीते जी भगवद् ध्यान और चिन्तन करता है, वह शोक में नहीं डूबता, बल्कि शोक के कारण संसार के बंधनों से छूट जाता है। शरीर छूटने के बाद विदेह मुक्त यानी जनम-मरण के बंधन से भी मुक्त हो जाता है। उसकी यही अवस्था सर्वव्यापक ब्रह्म रूप है।




















2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम