दांपत्य सुख का संबंध पति पत्नि दोनों से होता है


षष्ठेश, अष्टमेश उआ द्वादशेश के साथ संबंध होने पर दांपत्य सुख में न्यूनता आती है। काम प्रकृति की विभिन्नता के कारण असफल यौन संबंध जीवन में विषमता का कारण बन सकते हैं। इन सभी तत्वों का तात्पर्य यह है कि कुण्डली मिलान या गुण मिलान से अधिक महत्वपूर्ण है वर एवं कन्या के ग्रहों की प्रवृति का विश्लेषण करना। दांपत्य सुख का संबंध पति पत्नि दोनों से होता है। एक कुंडली में दंपत्य सुख हो और दूसरे की में नहीं तो उस अवस्था में भी दांपत्य सुख नही मिल पाता।

और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम