विवाह नही होगा अगर


सप्तमेश शुभ स्थान पर नही है।

सप्तमेश छ: आठ या बारहवें स्थान पर अस्त होकर बैठा है।

सप्तमेश नीच राशि में है।

सप्तमेश बारहवें भाव में है,और लगनेश या राशिपति सप्तम में बैठा है।

चन्द्र शुक्र साथ हों,उनसे सप्तम में मंगल और शनि विराजमान हों।

शुक्र और मंगल दोनों सप्तम में हों।

शुक्र मंगल दोनो पंचम या नवें भाव में हों।

शुक्र किसी पाप ग्रह के साथ हो और पंचम या नवें भाव में हो।

शुक्र बुध शनि तीनो ही नीच हों।

पंचम में चन्द्र हो,सातवें या बारहवें भाव में दो या दो से अधिक पापग्रह हों।

सूर्य स्पष्ट और सप्तम स्पष्ट बराबर का हो।


और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम