शनि देव जी न्याय प्रिय देव हैं


कुछ पापी मनुष्य पाप करने के उपरांत भी बच जाते हैं और अपने पापों की सजा न पा कर वह बहुत प्रसन्न होते हैं कि उनका गलत कार्य करने के पश्चात बाल तक बांका नहीं हुआ मगर वह यह भुल जाते हैं कि शनि देव जी न्याय प्रिय देव हैं। जो दंड उनको मिलना था उसे बड़ा देने के लिए उसे छोड़ देते हैं और फिर भी मानों बच जाते हैं तो उसकी अगली पीढ़ी को बहुत ही बेरहमी से पीसते हैं।

और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम