भाग्य ही सब कुछ है


अब यदि भाग्य ही सब कुछ है तो संजोग क्या चीज है | यदि जोड़ियाँ स्वर्ग में बनती हैं तो कुंडली क्यों मिलाएं | किस पर विश्वास करें और किस पर नहीं | टीवी पर आने वाले ज्योतिषाचार्यों की फीस भी हर कोई खर्च नहीं कर सकता | अब रिश्ता भी एक बार देखकर तो किया नहीं जाता | हो सकता है कि एक ही महीने में कई जगह कुंडली मिलानी पड़े तो इस स्थिति में बार बार ज्योतिषी के दरवाजे खटखटाना भी हर कोई नहीं चाहता |

स्वर्ग में बनने वाली जोड़ियाँ कुछ ऐसी भी होती हैं जो जल्दी टूट जाती हैं | इसलिए भाग्य के भरोसे वर वधु को छोड़ने से पहले जन्मकुंडली मिलान आवश्यक है | रिश्ता टूटने के बाद भी लोग ज्योतिषी के पास जाते देखे गए हैं |


और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम