हाथ की रेखाओं में छुपा है भूत भविष्य और वर्तमान


ज्योतिष एक विज्ञान है जिसके माध्यम से जीवन में घटने वाली सभी घटनाओं पर प्रकाश डालने का काम करता है।ज्योतिष के मुख्य दो भाग है, प्रथम  गणित और दुसरा फलित । फलित और गणित दोनों में अनुनाश्रय संबंध है ठिक उसी प्रकार जैसे भाषा और व्याकरण, किंतु ज्योतिष में एक और भी प्रभाग है जिसको हस्त में बने चिन्हों एवं पर्वों को अलग अलग राशियों में विभाजित कर उससे भी भूत भविष्य और वर्तमान का आकलन किया जाता है आगे चलकर हस्तरेखा सम्राट सर्वश्री किरो जी ने एक नया रूप दिया जो हस्तसामुद्रिक शास्त्र के रूप में काफी प्रचलित हुआ मैं ऐसा मानता हुं कि हस्त सामुद्रिक शास्त्र तो पहले से था ही पर किरो जी ने इसको अत्यनेत रोचकता पुर्वक आमजनमानस के बीच रखा जो आज एक चुनौती भरा सत्य सिद्ध प्रमाण युक्त भविष्य कथन का सोपान बन गया । इस शास्त्र के माध्यम से अनेकों की गयी भविष्यवाणियां लगभग पूर्णतया सत्य होती हैं।
मैं आज आप लोगों को उसी हस्त सामुद्रिक शास्त्र के बारे में रोचक जानकारियां प्रस्तुत करने जा रहा हुं। ज्योतिषी मानते हैं कि हस्तरेखा-विज्ञान से किसी भी व्यक्ति के भूत, भविष्य, वर्तमान और उसकी प्रकृति के बारे में जाना जा सकता है। भारत ही नहीं, पाश्चात्य देशों में भी पामिस्ट्रीका प्रचलन है।
ज्योतिष और हस्तरेखा-विज्ञान में मूलभूत अंतर यह है कि ज्योतिष में कुंडली के आधार पर व्यक्ति के बारे में बताया जाता है और दूसरे में हस्त रेखाओं के आधार पर। यह संभव नहीं है कि किन्हीं दो व्यक्तियों के हाथ की रेखाएं समान हों। ज्योतिष में समय के हेर-फेर से किसी व्यक्ति की कुंडली गलत भी बन सकती है, लेकिन हाथ की रेखाएं तो सामने होती हैं। इसलिए आकलन गलत होने का प्रश्न ही नहीं उठता। कर्म से तय होती है भाग्य रेखा पश्चिमी ज्योतिषी कीरो ने इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण काम किया है। फ्रांस के सेंट फ्रांसिसका भी इस क्षेत्र में अमूल्य योगदान है। उन्होंने हाथों के चित्रों के सहारे भविष्य बताने की इस कला को पूरी तरह समझाया है।
हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, प्रमुख रेखाएं हैं- जीवनरेखा,मस्तिष्क रेखा, हृदय रेखा और भाग्य रेखा। छोटी रेखाओं में आती हैं विद्या रेखा, विवाह या प्रणय रेखा, संतान रेखा, यात्रा रेखा, चिंता रेखा आदि।
हस्तरेखाविद दाहिनी और बाईदोनों हथेलियों को देखते हैं। बाई हथेली यह स्पष्ट करती है कि हम अपने भाग्य में क्या लेकर आए हैं और दाई से यह पता चलता है कि अपने कर्मो से हमने अब तक क्या कुछ प्राप्त किया है।
इससे यह स्पष्ट हो जाता है कि महत्व केवल रेखाओं का नहीं, व्यक्ति के कर्म का भी है। यदि वह अकर्मण्य है, तो जो कुछ उसके हाथ में लिखा है, वह उसे पूर्ण रूप से प्राप्त नहीं कर सकता। यदि वह कर्मठ है, तो हाथ में जितना कुछ नहीं लिखा है, उससे भी अधिक प्राप्त कर सकता है। इस संबंध में एक पाश्चात्य चिंतक का उद्धरण उपयोगी है-यदि हम ईश्वर को साथ लेकर अपने कर्म के प्रति पूर्ण मनोयोग से समर्पित हो जाएं, तो हम अपने भाग्य की रेखाओं को भी बदल सकते हैं। निश्चित ही कर्म के आधार पर हाथ की रेखाएं बनती और बिगडती हैं। यदि किसी के हाथ में विद्या रेखा नहीं है और वह कठोर कर्म के आधार पर विद्या प्राप्त कर लेता है, तो विद्या रेखा उसके दाहिने हाथ में उग आएगी। फल का निर्धारण हस्तरेखा-विज्ञान को लेकर कई महत्त्वपूर्ण बातें उल्लेखनीय हैं। किसी भी रेखा का स्वरूप उसके फल को निर्धारित करता है। यदि किसी रेखा पर क्रॉसका चिह्न है या वह कहीं पर कटी हुई है या उस पर कहीं टापू बना हुआ है, तो यह सब उस रेखा के विरुद्ध जाते हैं। उदाहरण के लिए जीवन रेखा पर यदि ऐसा कोई चिह्न होगा, तो वह घोर बीमारी का सूचक होगा। यदि जीवन रेखा और मस्तिष्करेखाअपने उद्गम स्थान पर एक साथ नहीं मिलती हैं, तो वह व्यक्ति क्रांतिकारी स्वभाव का होता है। ऐसे लोग ही समाज के बंधनों को तोडकर कुछ भी कर लेते हैं। यदि हाथों की उंगलियों के बीच अंतर [फांक] है, तो ऐसा व्यक्ति फिजूलखर्च होता है।

महत्त्वपूर्ण बातें आपको जानने के लिए जरूरी है

  • यदि हथेलियां गहरी हों, तो व्यक्ति धनी होता है। किसी व्यक्ति की भाग्य-रेखा चंद्रस्थान(हथेली के नीचे बाईं तरफ) से निकलती है, तो वह निश्चित ही लेखक, कवि, संगीतकार या अन्य किसी कला में पारंगत होता है। यदि किसी व्यक्ति का अंगूठा हथेली के साथ नब्बे या उससे अधिक डिग्री का कोण बनाता है, तो वह व्यक्ति अपना निर्णय स्वयं लेता है और किसी के परामर्श पर नहीं जाता है। इसके विपरीत जिसका अंगूठा झुका रहता है, वह अपना निर्णय कभी भी स्वयं नहीं ले सकता है।
  • यदि किसी व्यक्ति के अंगूठेमें तीन के बदले चार चिह्न होते हैं, तो उसे बाहरी संपत्ति प्राप्त होती है। जिसके अंगूठेका ऊपरी भाग बडा होता है, वह निश्चित ही महत्वाकांक्षी होता है। तिल का महत्व काले तिल का महत्व हस्तविज्ञानमें बहुत है। यदि यह किसी ग्रह के स्थान पर है, तो शुभ है। यदि किसी रेखा पर है, तो उसे बर्बाद कर देता है। इस सम्बंध में मैं एक निजी अनुभव प्रस्तुत करता हूं। हस्तरेखा शास्त्री होने के नाते मुझे एक बार ग्यारह वर्ष के एक बालक का हाथ देखने का अवसर मिला, जो पागल था। मैंने उसकी मस्तिष्क रेखा को अच्छी तरह देखा। न तो उस पर क्रॉसथा, न आइलैंड,न वह टूटी थी, न कहीं से टेढी। पागल होने का एक और कारण होता है वह है मस्तिष्क रेखा का चंद्रमा के स्थान की ओर मुडना। ऐसा भी नहीं था।
  • मैं आपको सत्य घटना बताउंगा क्योंकि एक बार मे पास एक कि एक विक्षिप्त  आया और , जब मैंने उनका हस्त रेखा देखा तो मैं पाया कि - इसके तो हाथ में पागलपन का कोई चिह्न नहीं था। तभी मेरा ध्यान उसके एक तिल पर गया, जो उसकी मस्तिष्क रेखा के मध्य में था और ठीक उसी के सामने जीवन रेखा पर भी। निश्चित था कि इन दो तिलों के कारण वह आजीवन पागल रहेगा। Anchorवैसे तो गणित और फलित ज्योतिष अपने आप में एक महत्त्वपूर्ण विज्ञान है लेकिन यदि जन्म समय, दिनांक, इ.सन् आदि का सही होना इन दोनों पद्धतियों में बेहद आवश्यक होता है , लेकिन उपरोक्त सभी में किसी एक की भी असमंजस की स्थिति है तो गणित और फलित दोनों के फल कथन गलत हो जाते हैं उस समय एक ही विकल्प रह जाता है वह है हस्तसामुद्रीक शास्त्र इस तरह हाथ की रेखाएं कुंडलियों या अंक विज्ञान से अधिक कारगर होती हैं और यदि उन्हें सही पढने वाला हो, तो एक खुली पुस्तक की तरह मनुष्य के जीवन की घटनाओं को पढ़ सकता है। इसिलिए मैं कहता हुं कि मनुष्य का भूत भविष्य और वर्तमान उसके हाथों में ही छीपा है जरूरत है एक ऐसे दैवज्ञ की जो सटीक जीवन की घटनाओं पर प्रकाश डाल सके।
  • -ज्योतिषाचार्य पं.विनोद चौबे, (ज्योतिष का सूर्य, मासिक पत्रिका के संपादक) संपर्क-09827198828, भिलाई




और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम