गुरु पर्वत के सामान्य लक्षण


तर्जनी के आधार पर स्थित पर्वत गुरु के पर्वत के रूप में जाना जाता है। यह व्यक्ति मे नेतृत्व, वर्चस्व, अधिकार, गर्व, आत्म-प्रशंसा और सम्मान की हद तक का प्रतिनिधित्व करता है। विकसित गुरु पर्वत व्यक्ति को शासन का नेतृत्व करने वाला तथा संगठित करने एवं असामान्य विचार पर काम करने की इच्छा को दर्शाता है लेकिन, यह अच्छे गुण केवल तभी कार्यान्वित हो सकते हैं यदि मस्तिष्क रेखा लंबी और स्पष्ट हो।

गुरु पर्वत की ऊंचाई | Elevation of the Guru Parvat


विकसित गुरु पर्वत व्यक्ति को महत्वाकांक्षी बनाता है। यह लोग धन से अधिक अपने ओहदे को महत्व देते हैं। ऐसे लोग अच्छे सलाहकार होते हैं। यह लोग कानून के दायरे मे रह कर कार्य करते हैं। ऐसे लोग अनेक तरह के व्यंजन खाने के शौकीन होते हैं और अपने परिवार से मोह करते हैं।

अधिक विकसित गुरु पर्वत व्यक्ति को अहंकारी, दिखावटी, क्रूर और इर्ष्यालु बनाता है। ऐसे लोग अधिक खर्चीले होते हैं।

यदि गुरु पर्वत अर्धविकसित हो तो व्यक्ति में गुरु संबंधित बुनियादी प्रवृत्ति विकसित नही होती है।

गुरु पर्वत से संबंधित उंगलियां | Finger Related to Guru Parvat


गुरु की उंगली तर्जनी उंगली होती है। यदि तर्जनी उंगली सामान्य से अधिक लंबी हो, तो व्यक्ति में लापरवाही और तानाशाही बढ़ जाती है। जब यह छोटी हो तो व्यक्ति मे ये विशेषताएँ लुप्त होती हैं। यदि यह उंगली विकृत है तो व्यक्ति चालाक, स्वार्थी और  पाखंडी होता है।

जब तर्जनी उंगली का पहला खंड लंबा हो तो व्यक्ति राजनीति, धर्म, और शिक्षण क्षेत्रों में कुशल होते हैं। यदि उंगली का दूसरा खंड लंबा हो तो व्यक्ति व्यापारी होता है और उंगली का तीसरा खंड लंबा हो तो ऐसे व्यक्ति विभिन्न प्रकार के व्यंजन के शौकीन होते हैं।

गुरु पर्वत का शीर्ष | Apex of Guru Parvat


गुरु पर्वत के बिंदु पर जब चारों ओर से रेखाएं जुड़ती हैं तो उसे शिखर रुप मे जाना जाता है। यदि यह शिखर गुरु पर्वत के केंद्र मे हो तो व्यक्ति गुरु संबंधित गुणों को बनाए रखता है। यदि यह शिखर शनि पर्वत की ओर  झुका हो तो व्यक्ति अनुशासित, गंभीर, उदास और उपेक्षित होगा। जब यह शिखर हृदय रेखा के पास स्थित हो तो व्यक्ति अपने परिवार के लिये कार्य करेगा। जब यह शिखर मस्तिष्क रेखा के पास स्थित हो तो व्यक्ति बौद्धिक गतिविधियों में शामिल किया जाएगा ।





और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम