पीलिया तीन रूपों में प्रकट हो सकता है


1 / हेमोलाइटिक जांडिस में खून के लाल कण नष्ट होकर कम होने लगते हैं। परिणाम स्वरूप रक्त में बिलरूबिन की मात्रा बढती है और रक्ताल्पता की स्थिति उत्पन्न हो जाती है।

2 / इस प्रकार के पीलिया में बिलरूबिन के ड्यूडेनम को पहुंचने में बाधा पडने लगती है। इसे प्रतिरोधी पीलिया कहते हैं।

3 / तीसरे प्रकार का पीलिया लिवर के सेल्स को जहरीली दवा (विषाक्त ड्रग्स) या विषाणु संक्रमण (वायरल संक्रमण) से नुकसान पहुंचने की वजह से होता है।

त्वचा का और आंखों का पीला होना तीनों प्रकार के पीलिया का मुख्य लक्षण है।


और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम