बच्चों के दांत निकलना


परिचय :

जन्म के कुछ महीने बाद बच्चों के दांत निकलने लगते हैं। दांत निकलते समय बच्चों में कई प्रकार के रोग उत्पन्न होते हैं। यदि बच्चे कमजोर हो तो उनमें अधिक रोग उत्पन्न होते हैं। दांत निकलने के समय बच्चे दस्त से अधिक पीड़ित होते हैं। कुछ बच्चे पेट दर्द से और कुछ कब्ज से परेशान रहते हैं। दांत निकलने के समय मसूढ़ों में खुजली, सूजन तथा अधिक पीड़ा होती है। गंदें बोतलों से दूध पीने तथा मिट्टी खाने वाले बच्चे दांत निकलते समय अधिक रोग से पीड़ित होते हैं। मां द्वारा अधिक सख्त व ठंड़े पदार्थ खाने से भी दांत निकलते समय बच्चा रोगों का शिकार हो जाता है।
लक्षण :

बच्चों के दांत निकलने के समय सिर गर्म रहने लगता है, मसूढ़ों में खुजली होती है, आंखे दुखने लगती है और बार-बार दस्त आता है। दांत निकलते समय पेट में दर्द व कब्ज भी उत्पन्न होती है।

विभिन्न औषधियों से उपचार:

वंशलोचन:

दांत निकलते समय बच्चे को वंशलोचन और शहद मिलाकर चटाना चाहिए। इससे दांत सुन्दर निकलते हैं और दांतों का दर्द भी खत्म होता है।

तुलसी:

5 मिलीलीटर तुलसी के पत्तों का रस शहद में मिलाकर बच्चों के मसूढ़ों पर लगाने और बच्चे को चटाने से दांत निकलते समय दर्द नहीं होता है।

अंगूर:
  • बच्चों के दांत निकलते समय दर्द कम करने के लिए अंगूर का रस पिलाएं। इससे दर्द कम होता है और दांत स्वस्थ व मजबूत निकलते हैं।
  • बच्चों के दांत निकलते समय अंगूर के रस में शहद मिलाकर पिलाने से दांत जल्द निकल आते हैं। इससे दांत निकलते समय दर्द नहीं होता।
  • दांत निकलते समय बच्चे को 2 चम्मच अंगूर का रस प्रतिदिन पिलाएं। इससे बच्चो के दांत सरलता और शीघ्रता से निकल आते हैं।


और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम