गैस्ट्रिक प्रॉबलम्स को दूर करने के चमत्कारी उपाय


रुटीन या खानपान में जरा सी गड़बड़ गैस्ट्रिक समस्याओं को बढ़ा सकती है। ऐसे में गैस्ट्रिक समस्याओं से निजात के लिए कुछ चमत्कारी उपाय मददगार हो सकते हैं। अगर आपको अक्सर इस तरह की सम्सयाएं होती हैं तो सैर और व्यायाम के साथ इन चमत्कारी उपायों को रुटीन में शामिल करने से आपको आराम मिल सकता है।

गुनगुना पानी पीने से न सिर्फ पाचन ठीक होता है बल्कि यह अपच से होने वाले पेट दर्द में भी आराम पहुंचाता है। गैस्ट्रिक की समस्या अधिक हो तो गर्म पानी में अज्वाइन या जीरा खौलाकर पीने से भी तुरंत आराम मिलता है। आयुर्वेद में काली मिर्च के सेवन को गैस्ट्रिक समस्याओं का प्रभावी इलाज माना गया है। यह शरीर में लार और गैस्ट्रिक जूस की मात्रा बढ़ाती है जिससे पाचन आसानी से होता है और गैस्ट्रिक दिक्कतें दूर होती हैं।

छाछ का सेवन न सिर्फ पाचन ठीक रखता है बल्कि इसमें मौजूद लैक्टिक एसिड गैस्ट्रिक समस्याओं को भी दूर करता है। पेट में जलन और अपच दूर करने में भी यह मददगार है। सौंफ न सिर्फ गैस्ट्रिक समस्याओं से दूर रखने में मददगार है बल्कि मुंह का स्वाद भी खराब नहीं होने देता है।

इसके सेवन से गैस्ट्रिक व एसिड रिफ्लक्स जैसी समस्याओं को दूर करने में मदद मिलती है।अदरक के रस में गर्म पानी और शक्कर मिलाएं और इसका सेवन करें। आयुर्वेद में इस मिश्रण को पेट से संबंधित समस्याओं को दूर करने में प्रभावी माना गया है। चाहें तो अदरक वाली काली चाय भी पी सकते हैं। कई शोधों में नींबू का सेवन गैस्ट्रिक, अपच, हार्ट बर्न जैसी समस्याओं के उपचार में मददगार माना गया है। नींबू के रस में पानी मिलाकर पीने से कॉन्स्टिपेशन की समस्या नहीं होती है और पाचन ठीक रहता है।

सुबह का समय इसके सेवन के लिए सबसे सही माना जाता है। अजवाइन दाने के सेवन से गैस्ट्रिक संबंधी समस्याओं में मिनटों में आराम मिल सकता है। आधा चम्मच अजवाइन और आधा चम्मच नमक का सेवन गर्म पानी के साथ करने से गैस्ट्रिक संबंधी समस्याएं खत्म हो जाती हैं।


और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम