परिचय


स्वस्थ शरीर में थाईराईड ग्रंथि टी3 और टी4 हारमोन स्रवित करती है जो शरीर के विभिन्न क्रिया-कलापों को प्रभावित करते हैं। ये हारमोन शरीर की चयापचय क्रिया को प्रभावित कर रोगी के वजन, रोगी को गर्मी,सर्दी कितनी लगती है और हमारे शरीर में कितनी केलरी दहन होती है इन सभी बातों को नियंत्रित करने की क्षमता संपन्न होते हैं।

हाईपर थायराईडिस्म रोग में थाईराईड ग्रंथि बढ जाती है। ग्रंथि से अधिक मात्रा में हार्मोन्स का स्राव होने लगता है। ये हार्मोन्स हृदय की गति बढा देते हैं, इतना ही नहीं ये हार्मोन्स शरीर् के अन्य अंगों को भी प्रभावित उनकी क्रियाशीलता में अभिवृद्धि कर देते हैं।

पुरुषों की बनिस्बत स्त्रियों में यह रोग ज्यादा पाया जाता है। रजोनिवृति के समय, मानसिक तनाव, गर्भावस्था के समय और यौवनारंभ के समय यह रोग अधिक प्रभावशाली हो जाता है।


और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम