आयुर्वेदिक चमत्कार ककड़ी का प्रयोग दवा के रूप में


ककड़ी का प्रयोग दवा के रूप में

ककड़ी को सलाद में शामिल करें अथवा अकेले ही सेवन करें, यह आपके शरीर को कई विटामिन देती हैं। शरीर को स्वस्थ बनाने में सहयोग करती है। उपचार के लिए भी ककड़ी का प्रयोग होता हैं।

* पायोरिया रोग हो जाने पर व्यक्ति बहुत परेशान रहता है। दांतों से पीप, खून निकलता है, जिससे बहुत बार बड़ी हास्यास्पद स्थिति हो जाती है। प्रतिदिन, दिन में दो बार केवल ककड़ी खाएं। ककड़ी का रस दांतों पर मलें या रस निकालकर घूंट-घूंट पियें। बहुत लाभ होगा।

* पेशाब रुक-रुककर अथवा कम आने की शिकायत होने पर ककड़ी के रस का आधा गिलास प्रतिदिन प्रातः पीएं। यदि पेशाब करते समय जलन हो तो भी यह लाभकारी है।

* पाचन शक्ति बढ़ाने में भी ककड़ी का सेवन उत्तम रहता है।

* वात रोग में ककड़ी तथा गाजर, दोनों का एक-एक कप रस लें, मिलाकर रोगी को पिलाएं। अच्छा आराम मिलेगा। यूरिक एसिड की अधिकता वात रोग का कारण बनती है। इस प्रयोग से यूरिड एसिड ठीक हो जाता है।

* ककड़ी का रस बालों के सभी रोगों का अच्छा इलाज है। ककड़ी के रस से बालों को धोने से बाल लम्बे होते हैं, बाल घने होते हैं और बालों का झड़ना रुक जाता है।

* यदि किसी व्यक्ति की त्वचा पर जरूरत से ज्यादा चिकनापन रहता है, जिस की त्वचा आयली हो तो ककड़ी काटकर चेहरे पर रगड़ा करें। कुछ देर बाद धो दें। कुछ ही दिनों में त्वचा ठीक हो जाएगी।

* अतः ककड़ी द्वारा कोई भी उपचार करना बहुत सरल तथा सस्ता रहता है। जेब पर बोझ भी नहीं पड़ता।

यह लेख साभार से लिया है हमारा उद्देश्य संसार मे आयुर्वेद के प्रति जागृति लाना है अतः जो व्यक्ति अगर कोई आयुर्वेदिक जानकारी रखता है तो वह हमें टिप्पणी लिख कर जानकारी दे सकता है।आप अपना लेख e-mail भी कर सकते है। हम सभी हिन्दुस्तानियों को आयुर्वेद के विकास में सहयोग करना चाहिये।तभी यह मानवोपयोगी चिकित्सा विज्ञान संसार के सामने आ सकेगा।


और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम