गोभी के फूलों में है सेहत की महक




गोभी का फूल महज एक सब्‍जी ही नहीं है, बल्कि इसमें आपको सेहतमंद बनाने के भी कई गुण मौजूद होते हैं। गोभी को अपने आहार में शामिल कर आप कई बीमारियों से बच सकते हैं। साथ ही कई रोग होने पर आप गोभी के जरिये उनका उपचार भी कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि यह गोभी आपके लिए कितनी फायदेमंद होती है।

गोभी भारतीय भोजना का प्रमुख हिस्‍सा है। आसानी से उपलब्‍ध होने वाली गोभी में कई औषधीय गुण भी हैं। सामान्‍य बीमारी से लेकर कैंसर जैसी बीमारी के उपचार में गोभी सहायता करती है। पत्‍ता गोभी में दूध के बराबर कैल्शियम पाया जाता है जो हड्डियों को मजबूत करता है। गोभी का बीच उत्‍तेजक, पाचन शक्ति को बढ़ाने वाला और पेट के कीड़ों को नष्‍ट करने वाला है। गोभी का रस मीठा होता है। आइए हम आपको गोभी से होने वाले फायदों के बारे में जानकारी देते हैं।

गोभी के चमत्कारी उपचार

पेट दर्द होने पर गोभी की जड़, पत्‍ती, तना फल और फूल को चावल के पानी में पकाकर सुबह-शाम लेने से पेट का दर्द ठीक हो जाता है।

गोभी खाने से खून साफ होता है। गोभी का रस पीने से खून की खराबी दूर होती है और खून साफ होता है।

हड्डियों का दर्द दूर करने के लिए गोभी के रस को गाजर के रस में बराबर मात्रा में मिलाकर पीने से हड्डियों का दर्द दूर होता है।

पीलिया के लिए भी गोभी का रस बहुत फायदेमंद है। गाजर और गोभी का रस मिलाकर पीने से पीलिया ठीक होता है।

बवासीर होने पर जंगली गोभी का रस निकालकर, उसमें काली मिर्च और मिश्री मिलाकर पीने से मस्‍सों से खून निकलना बंद हो जाता है।

खून की उल्‍टी होने पर गोभी का सेवन करने से फायदा होता है। गोभी की सब्‍जी या कच्‍ची गोभी खाने से खून की उल्टियां होना बंद हो जाती हैं।

बुखार होने पर गोभी की जड़ को चावल में पकाकर सुबह-शाम सेवन करने से फायदा होता है।

पेशाब में जलन होने पर गोभी का काढ़ा बनाकर रोगी को पिलाइए। इससे तुरंत आराम मिलता है।

गले में सूजन होने पर गोभी के पत्‍तों का रस निकालकर दो चम्‍मच पानी मिलाकर खाने से फायदा होता है।

गोभी के अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

दिल के लिए बहुत फायेदमंद होती है। यह दिल और कार्डियोवस्‍कुलर प्रणाली को सही प्रकार से काम करने में मदद करती है।

गोभी गोभी फाइबर का उच्‍च स्रोत होती है। फाइबर हमारी पाचन क्रिया को दुरुस्‍त रखता है और साथ कोलेस्‍ट्रॉल के स्‍तर को भी कम करता है।

गोभी में एंटी ऑक्‍सीडेंट्स होते हैं। एंटी ऑक्‍सीडेंट्स के काफी लाभ होते हैं। ये हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाते हैं।

गर्भावस्‍था में भी गोभी काफी फायदेमंद होती है। इसमें फोलेट काफी उच्‍च मात्रा में होते हैं। इसके साथ ही यह विटामिन ए और विटामिन बी से भी भरपूर होती है। यह कोशिकाओं को बढ़ने में मदद करती है। इससे गर्भ में पल रहे भ्रूण को काफी लाभ होता है। गोभी विटामिन सी का भी उत्‍तम स्रोत है। यह भी गर्भावस्‍था के दौरान काफी फायदेमंद होता है। इसलिए हर गर्भवती महिला को रोजाना कम से कम एक कप गोभी जरूर खानी चाहिए। गोभी में कैल्शियम की मात्रा भी काफी होती है। जो हमारे नर्वस सि‍स्‍टम को मजबूत बनाता है। कैल्शियम हमारे दांतों और हड्डियों को मजबूत बनाता है। इसके साथ ही यह शरीर की कई अन्‍य प्रणालियों को भी सही प्रकार से काम करने में मदद करता है।

गोभी में जिंक, मैग्‍नीशियम, मैन्‍गनीज, फास्‍फोरस और सेलेनियम तथा सोडियम जैसे लाभकारी तत्‍व होते हैं।

जिंक- यह नयी कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है और साथ ही शरीर की मरम्‍मत में भी मदद करता है।

मैग्‍नीशियम- यह पैराथायराइड ग्रंथि को सही प्रकार से काम करने में मदद करता है। इससे थायराइड की समस्‍या कम होती है।

फॉस्‍फोरस - यह हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है।

सेलेनियम - यह प्रतिरक्षा तंत्र को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करता है।

सोडियम - यह शरीर में तरल पदार्थों के स्‍तर को नियंत्रित करता है।

मैगनीज ' यह एंजाइम्‍स को बनाने और उनके बेहतर तरीके से काम करने के लिए जरूरी होता है।

गोभी कैंसर के खतरे को भी कम करने में मदद करती है। फेफड़े का कैंसर, स्‍तन कैंसर, ब्‍लैडर कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा गोभी के नियमित सेवन से कम हो जाता है। गोभी के जैविक परिवार में शामिल अन्‍य सब्जियांजैसे- ब्रोकली, कैल आदि भी कैंसर को दूर रखने में मदद करतीं हैं।

वजन कम करने में गोभी काफी फायदेमंद होती है। गोभी में मौजूद विटामिन सी अतिरिक्‍त वसा को कम करने में काफी महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके साथ ही इसमें फोलेट की मौजूदगी भी मोटापे से निजात दिलाने में मददगार होता है। एक कप गोभी में लगभग 30 कैलोरी होती है। इसमें स्‍टार्च नहीं होता इसलिए आप इसका जितना चाहें उतना सेवन कर सकते हैं।

गोभी लिवर में मौजूद एंजाइम्‍स को एक्टिवेट करने में मदद करती है। इससे लिवर बेहतर काम करता है और शरीर से विषैले पदार्थ अधिक मात्रा में बाहर निकलते हैं। इससे शरीर के कई अंगों को होने वाले नुकसान से बचा जा सकता है।

अपने शरीर में विटामिन के की मात्रा बढ़ाने के लिए अपने आहार में गोभी शामिल करें। विटामिन के अस्थि कोशिकाओं के निर्माण में महती भूमिका निभाता है। इतना ही नहीं, अगर आपके शरीर में विटामिन के की पर्याप्‍त मात्रा न हो, तो चोट अथवा जख्‍म लगने की स्थिति में आपके शरीर से अधिक मात्रा में रक्‍त बहेगा। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि विटामिन के रक्‍त के थक्‍के जमाने में काफी मदद करता है।


और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम