खान-पान में महत्‍पूर्ण स्‍थान रखने वाला हरी धनिया स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी है उपयोगी


भारतीय खानपान में हरी धनिया का उपयोग सदियों से होता आ रहा है। यह स्वास्थ्य के लिए काफी लाभप्रद होती है। इसमें प्रोटीन, वसा, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, खनिज आदि पाया जाता है। इसके अलावा हरी धनिया के पत्‍ती में कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, कैरोटीन, थियामीन, पोटोशियम और विटामिन सी भी पाया जाता हैं।

हरी धनिया पेट की समस्‍याओं के लिए बहुत फायदेमंद है, यह पाचनशक्ति बढ़ाता है। धनिया का प्रयोग शकाहार और मांसाहार दोनों में किया जाता है। गुणों से भरपूर धनिया के फायदों के बारे में हम आपको जानकारी दे रहे हैं।

धनिया के फायदे

हरी धनिया पेट की समस्‍याओं का निवारण करता है, यह पाचनशक्ति बढ़ाता है।

धनिया को ताजी छाछ में मिलाकर पीने से बदहजमी, मतली, पेचिश और कोलाइटिस में आराम मिलता है।

टाइफाइड में भी यह उपयोगी है, टाइफाइड होने पर हरी धनिया के पत्‍तों का सेवन करना चाहिए।

धनिया के सूखे बीज को पानी में उबाल कर छान लें और ठंडा करें, इस पानी को पीने से कोलेस्ट्राल का स्‍तर कम करने में मदद मिलती है।

एक चम्मच धनिया के जूस को चुटकी भर हल्दी के साथ मिलाकर मुंहासे पर लगाना लाभप्रद होगा।

हरी धनिया, हरी मिर्च, कसा हुआ नारियल और अदरक की चटनी बनाकर खाने से अपच के कारण पेट में होने वाले दर्द से आराम मिलता है।

अधिक मासिक धर्म आने पर छह ग्राम धनिया के बीज को आधा लीटर पानी में उबालें। पानी आधा होने पर थोड़ी सी शक्कर मिलाकर गर्म पीएं।

मांस को ताजा बनाये रखने के लिए हरी धनिया का प्रयोग किया जाता है।

हरी धनिया और हरी मिर्च की चटनी बहुत जायकेदार और फायदेमंद है।

लू लगने पर हरी धनिया को पीसकर उसका रस निकाल लीजिए, इस रस को चीनी के साथ मिलाकर पीने से आराम मिलता है।

पेट में दर्द होने आधा गिलास पानी में दो चम्‍मच धनिया डालकर पीने से पेट दर्द से राहत मिलती है।


और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम