Untitled Document

मंत्र-शक्ति का चमत्कार




मंत्र-शक्ति से हवन-कुंड में अग्नि जलाकर प्रेत बुलाने और हवन की आग में उसे जलाने की तरकीब 'बाबा' दर्शकों पर अपनी चमत्कारी शक्ति का प्रभाव सिद्ध करने के लिए करते हैं। एक बाबा ने अपने एक 'ग्राहक' की प्रेतबाधा दूर करने के लिए हवन किया। लोगों ने देखा कि बाबा ने हवन-कुंड में सूखी लकड़ियाँ रखीं और मंत्र पढ़ा। फिर थैले से एल्यूमिनियम की बनी एक तावीज निकाली। पास ही उसका 'भक्त ग्राहक' बैठा था। बाबा ने वह ताबीज उसकी बाँह में बाँध दिया। हवन शुरू हुआ। बाबा ने मंत्र के नाम पर कुछ भी बोलना शुरू किया।

उसने हवन कुंड की तलहटी में पहले ही लोगों की नजर बचाकर पोटैशियम परमैगनेट का पाउडर डाल दिया था। उसी पर सूखी लकड़ियाँ रख दी। फिर मंत्र पढ़ते-पढ़ते झोले से घी का डिब्बा निकालकर हवन-कुंड में घी डाला। घी डालते ही हवन कुंड जल उठा। फिर तो बाबा ने पूरे जोश में मंत्र पढ़कर, मोरपंखों के झाड़ू से भूत को भगाया और ग्राहक के सिर को झाड़ा। लोग आश्चर्यचकित थे कि बाबा ने मंत्रों से आग जला दी।

फिर बाबा ने कहा- 'ताबीज खोल दो। देखो भूत के जलने की राख वहाँ पड़ी होगी।' और ताबीज खोलकर देखी गई तो सचमुच बाँह पर थोड़ी-सी राख थी। 'बाबा की 'जय-जयकार' होने लगी। सच तो यह है कि बाबा ने हवन-कुंड में घी नहीं, ग्लिसरीन डाली थी। पोटैशियम परमैगनेट पर ग्लिसरीन पड़ने से आग जल उठती है। इसी तरह उसने एल्यूमिनियम के तावीज के एक तरफ मरक्यूरिक क्लोराइड लगा दी थी। जब एम्यूमिनियम मरक्यूरिक क्लोराइड के संपर्क में आता है तो उससे भभूति जैसा पदार्थ बनता है। उसे ही प्रेत की राख कहकर बाबा ने लोगों को भ्रमित किया। 'मरक्यूरिक क्लोराइड' जहरीला पदार्थ है। इसका प्रयोग सावधानी से करें।


और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम