Untitled Document

असंख्‍य तीर्थ और त्योहार




असंख्‍य तीर्थ और त्योहार : हिंदुओं में 365 दिन में से संभवत: 300 त्योहार होंगे और 4 धाम की बजाय 40 तीर्थ होंगे। बहुत से त्योहार लोक परंपरा का हिस्सा है और बहुत से तीर्थ तो लोगों ने स्वयं ही निर्मित कर लिए हैं। पहले जन्माष्टमी, हनुमान जयंती, रामनवमी, नवरात्रि और शिवरात्रि मनाई जाती थी, लेकिन अब लोगों ने पुराण पढ़-पढ़कर बहुत से लोगों की जयंती मनाना शुरू कर दी है।

प्रत्येक समाज का अपना एक अलग त्योहार और तीर्थ हो चला है, लेकिन यह खोजना जरूरी है कि सभी हिंदुओं का एकमात्र त्योहार कौन-सा है? धार्मिक एकता के लिए जरूरी है कि परंपरा और त्योहार के इतिहास को समझकर मनाया जाए।

यह लंबे काल और वंश परंपरा का परिणाम ही है कि वेदों को छोड़कर हिन्दू अब स्थानीय स्तर के त्योहार और विश्वासों को ज्यादा मानने लगा है। सभी में वह अपने मन से नियमों को चलाता है। कुछ समाजों ने मांस और मदिरा के सेवन हेतु उत्सवों का निर्माण कर लिया है। वेद अनुसार रात्रि के सभी कर्मकांड निषेध माने गए हैं।


और पढ़ें

2017 मिर्ची फैक्ट्स.कॉम